नया साल क्यों मनाया जाता हैं? Why Celebrate New Year in Hindi

नए साल (New Year) का उत्सव लगभग 4000 साल से भी पहले बेबीलोन में 21 मार्च को मनाया जाता था, जो कि वसंत के आने की तिथि भी मानी जाती थी। प्राचीन रोम में भी नव वर्षोत्सव तभी मनाया जाता था।

 प्रसिद्ध रोमन सम्राट जूलियस सीज़र ने 47 ईसा पूर्व में इस कैलेंडर में परिवर्तन किया और इसमें जुलाई माह जोड़ा। इसके बाद उसके भतीजे के नाम के आधार पर इसमें अगस्त माह जोड़ा गया। तब विश्व में पहली बार 1 जनवरी को New Year का उत्सव मनाया गया। यूं तो पूरे विश्व में नया साल अलग-अलग दिन मनाया जाता है, नया साल जिसका सभी को बेसब्री से इंतजार रहता है।

चाहे वह बच्चे हों या फिर बड़े हों, हर कोई New Year के आागमन का इंतजार करता है। New Year का मतलब होता है, साल का पहला दिन जो कि 1 जनवरी को दुनिया के ज्यादातर देशों में बनाया जाता है। इसी दिन के साथ दुनिया भर के ज्यादातर लोग अपने नए साल की शुरुआत करते हैं।

क्योंकि साल नया है, इसलिए नई उम्मीदें, नए सपने, नए लक्ष्य, नए Idea के साथ इसका स्वागत किया जाता है। नया साल मनाने के पीछे मान्यता है कि साल का पहला दिन अगर उत्साह और खुशी के साथ मनाया जाए, तो साल भर इसी उत्साह और खुशियों के साथ ही बीतेगा।

नए साल पर लोग अपने मन के अंदर से नकारात्मक भावनाओं को खत्म करके सकारात्मक सोच के साथ अपनी जिंदगी में आगे बढ़ते हैं। क्योंकि व्यक्ति सकरात्मकता सोच के साथ ही सफल जीवन का निर्वाह कर सकता है। वहीं एक सफल और कामयाब इंसान के पीछे उसकी सकारात्मक सोच ही होती है।

हालांकि हिन्दू पंचांग के अनुसार के मुताबिक नया साल 1 जनवरी से शुरू नहीं होता। हिन्दू नववर्ष का आगाज गुड़ी पड़वा से होता है। लेकिन 1 जनवरी को नया साल मनाना सभी धर्मों में एकता कायम करने में भी महत्वपूर्ण योगदान देता है, क्यों इसे सभी मिलकर मनाते हैं। 31  दिसंबर की रात से ही कई स्थानों पर अलग-अलग समूहों में इकट्ठा होकर लोग नए साल का जश्न मनाना शुरू कर देते हैं और रात 12 बजते ही सभी एक दूसरे को नए साल की शुभकामनाएं देते हैं।

नए साल का जश्न दुनिया के अलग अलग देशों में अलग-अलग दिन मनाया जाता है, क्योंकि दुनियाभर में कई अलग-अलग कैलेंडर हैं और हर कैलेंडर में नया साल अलग अलग दिनों में आता है। 1 जनवरी को नए साल के रुप में मनाया जाने वाला कैलेंडर ग्रागोरिया पर आधारित है, जिसकी शुरुआत रोमन कैलंडर से हुई है। 

नया साल एक नई शुरूआत को दर्शाता है और हमेशा आगे बढ़ने की सीख देता है। पुराने साल में हमने जो भी किया, सीखा, सफल या असफल हुए उससे सीख लेकर, एक नई उम्मीद के साथ आगे बढ़ना चाहिए। जिस प्रकार हम पुराने साल के समाप्त होने पर दुखी नहीं होते बल्‍कि नए साल का स्वागत बड़े उत्साह और खुशी के साथ करते हैं, उसी तरह जीवन में भी बीते हुए समय को लेकर हमें दुखी नहीं होना चाहिए।

जो बीत गया उसके बारे में सोचने की अपेक्षा आने वाले अवसरों का स्वागत करें और उनके जरिए जीवन को बेहतर बनाने की कोशिश करें। क्योंकि सभी लोग मिलकर, एक जगह पर इकट्ठा होकर इस दिन का जश्न मनाते हैं। पुराने साल के आखिरी दिन 31 दिसंबर की रात से ही लोग नए साल के आगमन का जश्न मनाना शुरु कर देते हैं और इस रात को लोग घड़ी पर टकटकी लगाए बैठे रहते हैं और 12 बजते ही सभी को एक-दूसरे को नए साल की बधाई देते हैं और अपने दोस्तों, रिश्तेदारों और दोस्तों के खुशी जीवन की कामना करते हैं।

नए साल की खुशी में कई स्थानों पर पार्टी आयोजित की जाती है जिसमें नाच-गाना और स्वादिष्ट व्यंजनों के साथ-साथ मजेदार खेलों के जरिए मनोरंजन किया जाता है। कुछ लोग धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन कर ईश्वर को याद कर नए साल की शूरूआत करते हैं। 

नए साल के मौके पर कोई अपने परिवार वालों के साथ घर पर ही रह कर एक साथ वक़्त व्यतीत करता है और घर पर ही तरह-तरह के पकवान बनाकर स्वादिष्ट भोजन का आनंद उठाता है तो कोई अपने दोस्तों के साथ बाहर पिकनिक मनाने जाता है। वहीं आजकल नए साल पर केक काटने का ट्रेंड भी है।

वहीं कोई अपने परिवार वाले या फिर करीबियों के साथ कहीं घूमने जाने की प्लानिंग करता है तो कोई नए साल में मूवी देखने जाने का प्रोग्राम रखता है। यानि कि हर कोई इस दिन को अपने-अपने तरीके से खास मनाने की कोशिश करता है ताकि उसका पूरा साल खास तरीके से बीते।

वहीं अगर बड़े-बड़े सेलिब्रिटीज या फिर मशहूर हस्तियों की बात करें तो वे लोग भी इस दिन खास तरीके की पार्टी कर इसका जश्न मनाते हैं या फिर अपने परिवार वालों के साथ अपना समय व्यतीत करते हैं। कई लोग इस दिन गरीब लोगों को खाना भी खिलाते हैं या फिर उन्हें कंबल, कपड़े आदि वस्तुएं बांटते हैं। 365 दिन के बाद हर बार नया साल आता है और हर साल चला जाता है।

लेकिन हर साल के आखिरी में लोग अपने पूरे साल का आकलन करते हैं कि उन्होंने पूरे साल क्या हासिल किया है क्या खोया है। इसके साथ ही लोग अपने आने वाले साल को और ज्यादा बेहतर बनाने की कोशिश में लग जाते हैं। नए साल के मौके पर लोग अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को तरह-तरह के ग्रीटिंग्स और गिफ्ट्स भी देते हैं।

लेकिन अब समय के साथ-साथ नया साल मनाने का तरीका भी बदलता जा रहा है। अब ग्रींटिग्स का चलन कम होता जा रहा है, तो वहीं सोशल मीडिया जैसे कि फेसबुक, व्हाट्सऐप और इंस्ट्राग्राम पर नए साल की धूम दिखाई देती है।

Resolution on New Year

  1. Office time से  पहुंचना
  2. गाड़ी  चलाते  वक़्त  फ़ोन पे  बात  ना  करना
  3. हर  महीने  एक  नयी किताब पढना
  4.   हफ्ते  में  तीन  बार  पौधों  में  पानी  डालना
  5. Seat Belt बाँध  कर  कार  चलाना.
  6. हेलमेट पहन  कर  ही  बाइक चलाना .
  7. बच्चों  के  सामने सिगरेट / शराब नहीं  पीना.
  8.  हर  महीने पैसे बचाना 
  9.  रोज  किसी  की  प्रशंशा करना
  10. कुर्सी  पर  सही  पोजीशन में  बैठ  कर  काम  करना 

Read Also Christmas Kyo Manaya Jata hai

One Thought on नया साल क्यों मनाया जाता हैं? Why Celebrate New Year in Hindi
    Christmas Kyo Manaya Jata hai - Aao Kare
    10 Jan 2021
    9:36pm

    […] Read Also नया साल क्यों मनाया जाता हैं? Why Celebrate New Years … […]

Leave A Comment